Sakshatkar.com : Sakshatkartv.com

.
https://640168-ztk5vu3zffob12d1l8r.hop.clickbank.net

Random Posts

गुरुवार, 30 जून 2022

जीएसटी लगने से पेट्रोल डीजल सस्ता हो सकता है

0

केंद्र सरकार की योजना है अगर जीएसटी के दायरे में डीजल पेट्रोल लाया जाए ₹30 सस्ता हो सकता है पेट्रोल डीजल की महंगाई से परिवहन पर असर पड़ता है जिससे से महंगाई दर में काफी वृद्धि हो जाती है महंगाई बढ़ने पर गरीबों के जेब का भी खाली हो जाती है मध्यमवर्ग असर डालता है इस वीडियो में जीएसटी लगाने से पेट्रोल-डीजल के दामों पर पर कितना असर पड़ेगा विस्तृत से बताया गया है

Read more

बुधवार, 29 जून 2022

आर्मीनिया का एक ऐसा गांव बालिक स्त्री पुरुष को संभोग करने की पूरी छूट है

0


https://youtu.be/Y3L0ZnlKiZk 

पूर्व सोवियत संघ के आर्मीनिया देश में एक ऐसा गांव है जहां अट्ठारह वर्ष ऊपर से स्त्री पुरुष आपसी सहमति से संबंध बनाने की छूट है यह छूट गांव बड़े बुजुर्गों ने युद्ध से खत्म हुए जनसंख्या के कारण उठाई थी बुजुर्गों नया छूट  दे दी थी कोई भी स्त्री पुरुष अपनी सहमति से संबंध बना सकता है करते वह 18 साल से ऊपर का हो यह प्रथा उस समय मजबूरी में दी गई थी परंतु आज के लोग इस  प्रथा को छोड़ना नहीं चाहते

Read more

मंगलवार, 28 जून 2022

For loss weight

0

 https://m.leanlifenow.com/cb/https://m.leanlifenow.com/cb/

Read more

सोमवार, 27 जून 2022

ऐतिहासिक झांसी का किला उत्तर प्रदेश में

0





 झांसी का किला उत्तर प्रदेश में झांसी जिले में  बड़ी पहाड़ी पर स्थित है झांसी रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर दूर है निकटतम हवाई अड्डा ग्वालियर है इसका निर्माण राजा वीर  सिंह जूदेव 1606 से 27 मैं ओरछा के बलवंत नगर शहर बंगरा नामक चट्टानी पहाड़ी पर किया था जिसे वर्तमान में झांसी कहा जाता है इस किले के लिए 10 दरवाजे झांसी किले का निर्माण बुंदेला राजपूतों के प्रमुख ओरछा साम्राज्य के शासक वीर सिंह जूदेव बुंदेला ने 1613 में किया था मोहम्मद खान बंगश ने 1728 ने महाराजा छत्रसाल पर हमला किया पेशवा बाजीराव द्वारा उनकी जीत में मदद की गई समर्थन के लिए कृतज्ञता के प्रतीक के रूप में छत्रसाल झांसी सहित अपने राज्य का एक हिस्सा पेशवा को दिया 1742 मैं नरोशंकर झांसी के सूबेदार बने अपने 15 वर्षों के शासन के दौरान उन्होंने झांसी के किले का विस्तार किया पेशवा ने 1957 में वापस बुलाया और माधव गोविंद और उनके बाद बाबूलाल कन्हाई झांसी के सूबेदार बने बाद में विश्वास राव लक्ष्मण ने 1766 से 1769  तक यह पद ग्रहण किया रघुनाथ राव दुतीय के बाद शिव राव रघुनाथ राव तृतीय के बाद बाल गंगाधर राव कोई  पुत्र नहीं था इनका विवाह मणिकर्णिका से हुआ था जो रानी लक्ष्मी बाई के नाम से प्रसिद्ध उन्होंने दामोदर राव को गोद लिया था बाद में अंग्रेजों से लड़ते हुए शहीद हुई थी

Read more

शुक्रवार, 24 जून 2022

कृषि के महत्व पर चर्चा

0

Read more

गुरुवार, 23 जून 2022

विश्व की आने वाली मंदी पर गिरजेश वशिष्ट की समीक्षा

0

विश्व में मंदी आने वाली है वरिष्ठ पत्रकार गिरिजेश वशिष्ठ ने एक समीक्षा की है मेरे अनुसार उनका कथन सत्य है आने वाला समय मंदी का है जिस प्रकार अमेरिका अपने ब्याज दर बढ़ा रहा है भारत के शेयर मार्केट से पैसे अमेरिकी निवेशक ने निकालनी शुरू कर दिए हैं उसके परिणाम स्वरूप देश है देश भारत पर भी इसका असर पड़ेगा कृषि और मेडिकल क्षेत्र ही एक ऐसा क्षेत्र है जिस पर मंदी का असर कम पड़ेगा अतः आप कोई प्लानिंग कर रहे हैं लोन वगैरह लेने की उस दिन तक रुक जाएhttps://youtu.be/P-aiiP0UIUAhttps://youtu.be/P-aiiP0UIUA

Read more

पति को कैसे बनाया जाए 'जोरू का गुलाम'?

0

Google के डेटा के मुताबिक, शादीशुदा महिलाएं सबसे ज्यादा सर्च करती हैं कि कैसे पता करें कि पति को क्या पसंद है! उनकी चॉइस क्या है और उन्हें क्या पसंद और नापसंद है! यह सवाल उनकी तरफ से काफी आम हैं! गूगल पर ये सवाल भी काफी बार पूछा जाता है कि शादीशुदा महिलाएं अपने पति का दिल कैसे जीतें, उन्हें किस तरह खुश करें! लेकिन एक सर्च हैरान करने वाला है, जानकर आप भी चौंक जाएंगे! पति को कैसे बनाया जाए 'जोरू का गुलाम'? शादीशुदा महिलाएं गूगल से पूछती हैं कि अपने पति को अपनी मुट्ठी में करके कैसे रखें, उन्हें 'जोरू का गुलाम' कैसे बनाएं! पत्नियां जानना चाहती हैं कि उन्हें अपने परिवार को बढ़ाने का फैसला कब लेना चाहिए और बच्चा पैदा करने का सही समय क्या हो सकता है! शादीशुदा महिलाएं ये सवाल भी पूछती हैं * महिलाएं जानना चाहती हैं कि शादी के बाद उन्हें अपने नए परिवार में किस तरह पेश आना चाहिए, वो उस परिवार, अपने ससुराल का हिस्सा कैसे बन सकती हैं! * अपने परिवार की जिम्मेदारी किस तरह उठाई जाएगी! * अपना खुद का बिजनेस शादी के बाद कैसे चलाना चाहिए और परिवार को बिजनेस के साथ कैसे हैंडल करना चाहिए!  Tags:     google Search History Married Woman Google Search how To See Google Search History  sabhar Govt Vacancy: शादीशुदा महिलाएं Google पर करती है ऐसी चीजें सर्च जिसकी कोई पति कभी उम्मीद भी नही कर सकता, आपको भी जानकर....sabhar https://govtvacancyjobs.com/viral-story/married-women-search-the-most-on-google-how-to-keep-husband-in-your-fist-google-search-result-283634

Read more

बुधवार, 22 जून 2022

दुनिया में आ सकती है मंदी का दौर

0

कोरोना महामारी और फिर रूस यूक्रेन युद्ध से बढ़ी महंगाई का असर केवल भारत पर ही नहीं बल्कि दुनिया का एकमात्र महाशक्ति कहा जाने वाला अमेरिका भी इस समस्या से जूझ रहा है वहां पर महंगाई का असर 40 सालों के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है अमेरिकी प्रशासन में ब्याज दर बढ़ाने का कदम उठाया है विश्व के लगभग 137 देश आर्थिक मंदी के चपेट में आ रहे हैं खाने पीने की वस्तुओं का व्यापक कमी हो रही है मुद्रास्फीति चरम पर है इन सब चीजों से भारत होता है भारत का कृषि पर आधारित अर्थव्यवस्था कम खर्च शिक्षा सनातन संस्कृति पर आधारित होने के कारण भारत एक आर्थिक महाशक्ति बनने के तरफ अग्रसर है जहां आज विदेशों में अमेरिका जैसा मजबूत अर्थ शक्ति वाला देश मंदी की चपेट में आने को को तैयार है और दिवालिया होने की राह पर खड़ा है इससे भारतीय संस्कृति की झलक मिलती है हमें प्रकृति के नजदीक रहना चाहिए प्रकृति के सहयोग से कार्य करना चाहिए ना किअनाधिकृत रूप से प्रकृति का शोषण करें

Read more

शनिवार, 18 जून 2022

मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए देश का अग्रणी संस्थान है सीजीसी लांडरां

0

इंजीनियरिंग की सबसे पुरानी शाखाओं में से एक है मैकेनिकल इंजीनियरिंग। आधुनिक समय में भी इसकी महत्ता बरकरार है, बल्कि समय के साथ इसकी डिमांड और बढ़ रही है। स्टीम इंजन के जमाने से लेकर आज की आधुनिक ऑटोमेशन-समर्थित मैन्युफैक्चरिंग और ऑटोमोबाइल सेक्टर में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की मांग कायम है और बढ़ रही है। यही वजह है कि इंजीनियरिंग फील्ड में जाने वाले छात्रों के लिए मैकेनिकल इंजीनियरिंग एक पसंदीदा विषय रहा है।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए देश का सर्वश्रेष्ठ संस्थान चुनने की बात आती है तो निर्विवाद रूप से चंडीगढ़ ग्रुप ऑफ कॉलेज लांडरां सबसे अग्रणी है। सीजीसी लांडरा (पंजाब), न केवल स्टूडेंट्स को अभिनव आइडिया के साथ उद्योग और मार्केट की जरूरतों और डिमांड के अनुरूप तैयार करता है बल्कि दुनिया भर में प्रमुख मैकेनिकल इंजीनियरिंग कंपनियों में प्लेसमेंट के हिसाब से नवीनतम तकनीकी और व्यवहारिक अनुभव भी प्रदान करता है। इसकी वजह से स्टूडेंट्स मैन्युफैक्चरिंग, एनर्जी जनरेशन, ट्रांसपोर्टेशन, वेस्ट मैनेजमेंट, हेल्थ और एनवायरमेंट जैसे विभिन्न क्षेत्रों में अपना योगदान देने में समर्थ होते हैं। सीजीसी लांडरां की यही विशेषताएं उसे देश के टॉप मैकेनिकल इंजीनियरिंग कॉलेजों में शुमार करती हैं। sabhar https://www.bhaskar.com/career/news/cgc-landran-is-the-countrys-leading-institute-for-the-study-of-mechanical-engineering-129946954.htm

Read more

क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करने वालों को अब हर रोज नया झटका लग रहा है

0

क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करने वालों को अब हर रोज नया झटका लग रहा है. वजह, कभी इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न के मामले में बुलंदियों को छू रही मशहूर क्रिप्ट... https://www.aajtak.in/business/utility/story/cryptocurrency-investors-making-loss-bitcoin-down-20k-dollar-mark-ethereum-decline-too-tutk-1484140-2022-06-18

Read more

गुरुवार, 9 जून 2022

संगीत चिकित्सा का साधन"..

0

Copied... #संगीत_चिकित्सा का साधन".. क्योंकि #संगीत भी #चिकित्सा का साधन है.. इसी बात को ध्यान में रखते हुए.. मैं सोच रहा था कि.. क्यों न ग्रुप में.. थोड़ा सा स्थान.. *संगीत चिकित्सा* के लिए भी रखा जाये... इसके लिए मैंने सोचा है कि.. रोज रात्रि में सोने से पहले.. एक मधुर गीत ग्रुप में पेश किया जाये... ताकि उसे सुनकर दिनभर की थकान, दौड़धूप और चिक चिक की वजह से होने वाली मानसिक थकान और टेंशन आदि उड़न छू हो जाये.. और मधुर संगीत को सुनकर.. आप सबको थोड़ा सकून सा भी मिले.. मनुष्य... कामकाज की वजह से शारीरिक रूप से उतना नही थकता.. जितना कि वह मानसिक रूप से थक जाता है... आजकल की जीवन शैली ने हमे शारीरिक रूप से अनेक रोगों का शिकार बना ही दिया है.. लेकिन अगर ध्यान से देखा जाये तो हम शारीरिक रूप से बाद में बीमार हैं.. पहले हम मानसिक रोग का शिकार हैं.. और.. इस तरफ किसी का ध्यान भी नही जा रहा है.. बीमारियों की असली वजह यह है कि हमारा मस्तिष्क ही हमारे पूरे शरीर के कार्यों और अंगों पर नियंत्रण रखता है.. और यही सबसे ज्यादा हताश और निराश रहता है.. यही हमारे शरीर मे रक्तचाप और हार्मोन्स आदि पर भी नियंत्रण रखता है... मस्तिष्क के रिलैक्स न रहने की वजह से ही अन्य शारीरिक रोग पनपते जा रहे हैं.. इसलिए...हमे अपने मस्तिष्क को रिलैक्स करने के लिए योग, प्राणायाम, सात्विक भोजन आदि के साथ - साथ.. *मधुर संगीत* सुनने पर भी ध्यान देना चाहिये... *लेकिन ध्यान रहे...कर्कश ध्वनि या संगीत से भी हमे कोसो दूर रहना चाहिये... क्योंकि कर्कश संगीत भी मानसिक अशांति का ही कारण होता है...* 👉🏻संगीत, मधुर ध्वनि के माध्यम से एक योग प्रणाली की तरह है, जो मानव जीवन के साथ साथ प्रकृति पर भी कार्य करता है.. तथा आत्मज्ञान की हद के लिए उनके उचित कार्यों को जागृत तथा विकसित करती हैं, जोकि हिंदू दर्शन और धर्म का अंतिम लक्ष्य है। मधुर लय भारतीय संगीत का प्रधान तत्व है... *राग* का आधार मधुर लय है... विभिन्न *राग* केन्द्रीय तंत्रिका प्रणाली से संबंधित अनेक रोगों के उपचार में प्रभावी पाये गये हैं.. भारतीय संगीत की प्रमुख विशिष्‍टता *रागदारी संगीत* है.. राग भारतीय संगीत की आधारशिला है.. इसका अर्न्‍तनिहित.. स्‍वर-लय, रस-भाव अपने विशिष्‍ट प्रभाव से व्‍यक्‍ति के मन-मस्‍तिष्‍क को प्रभावित करता है.. जिस प्रकार हर रोग का संबंध किसी ना किसी ग्रह विशेष से होता हैं.. उसी प्रकार संगीत के हर सुर व राग का संबंध भी किसी ना किसी ग्रह से अवश्य होता हैं.. यदि किसी इंसान को किसी ग्रह विशेष से संबन्धित रोग हो और उसे उस ग्रह से संबन्धित राग,सुर अथवा गीत सुनाये जायें तो रोगी बहुत जल्दी ही स्वस्थ हो जाता हैं.. स्‍वर तथा लय की भिन्‍न-भिन्न प्रक्रिया उसकी शारीरिक क्रियाओं, रक्‍त संचार, मान्‍सपेशियों, कंठ ध्‍वनियों आदि में स्‍फूर्ति व उर्जा उत्‍पन्‍न करते हैं तथा व्‍याधियों को दूर करते हैं.. 👉🏻 *संगीत-मकरंद* ग्रंथ में नारद द्वारा रागों की जातियों के आधार पर रोगी के मन और शरीर पर प्रभाव पड़ने का उल्‍लेख किया गया है.. नारद जी ने *संगीताध्‍याय..* के प्रकरण में विभिन्‍न दशाओं में रागों के गायन-वादन का निर्धारण किया है.. *आयुधर्मयशोवृद्धिः धनधान्‍य फलम्‌ लभेत्‌ ।* *रागाभिवृद्धि सन्‍तानं पूर्णभगाः प्रगीयते ॥* *अर्थात्‌...* आयु, धर्म, यश वृद्धि, सन्‍तान की अभिवृद्धि, धनधान्‍य, फल-लाभ इत्‍यादि के लिये पूर्ण रागों का गायन करना चाहिये.. 👉🏻वेदों में संगीत को मोक्ष प्राप्‍ति का सर्वोत्‍कृष्‍ट साधन माना गया है... *ऋग्‍वेद* में... *गाथपति* नामक चिकित्‍सक का उल्‍लेख है.. जिसका तात्‍पर्य संगीत चिकित्‍सक से है.. *सामवेद..* में.. जिसे भारतीय संगीत का वेद माना जाता है.. रोग-निवारण के लिये राग-गायन का विधान मिलता है.. *अथर्ववेद* में.. ऋक, यजुष और साम के ऐसे मंत्र थे, जो जीवन से व्‍यवहार से और स्‍वास्‍थ्‍य से सम्‍बन्‍धित थे... *ब्रह्‍मा जी..* रत्‍न विशेषज्ञ, संगीतज्ञ एवं वैद्य आदि सभी के गुणों को धारण करते थे.. यज्ञों के माध्‍यम से अपने आपको.. शारीरिक, मानसिक व व्‍यवहारिक रूप से संतुलित रखने का प्रावधान था.. *मंत्र-मणि* एवं *औषधि..* तीनों द्वारा अथर्ववेद में उपचार बताया गया है.. मंत्र-संगीत (साम) रत्‍न-मणी, तथा औषधि ने आगे चलकर *आयुर्वेद* का रूप धारण किया.. *आयुर्वेद..* में देह धारण की तीन धातुयें बताई गई हैं... *वात, पित्त और कफ..* अतः इन तीनों धातुओं का सन्‍तुलन बनाये रखने के लिये.. शब्‍द शक्‍ति, मंत्र शक्‍ति और गीत शक्‍ति का भी प्रयोग होता रहा है.. ऋषि-मुनियों द्वारा संगीत व मंत्र साधना ओऽम्‌ द्वारा अनेक प्रकार की सिद्धियों व चमत्‍कारों पर अधिकार प्राप्‍त करना संगीत के प्रभाव का बोध कराता है.. संगीतार्षि.. *तुम्‍बरू* को प्रथम संगीत चिकित्‍सक माना जाता है.. उन्‍होंने अपनी पुस्‍तक.. *संगीत-स्‍वरामृत..* में उल्‍लेख किया है कि ऊँची और असमान ध्‍वनि का *वात्‌* पर.. गम्‍भीर व स्‍थिर ध्‍वनि का *पित्त* पर.. तथा कोमल व मृदु ध्‍वनियों का *कफ़* के गुणों पर प्रभाव पड़ता है... यदि सांगीतिक ध्‍वनियों द्वारा इन तीनों को संतुलित कर लिया जाये तो बीमारियों की सम्‍भावनायें ही खत्‍म हो जायेगी.. 👉🏻योग के सिद्धान्‍त के अनुसार.. श्‍वासों से जुड़ना अर्न्‍तमन से जुड़ना है और व्‍यक्‍ति जब अन्‍तर्मन से जुड़ जाता है तो ऋणात्‍मक संवेग कम हो जाता है और धनात्‍मक संवेग स्‍थायी होने लगते हैं.. ये धनात्‍मक संवेग मनोविकारों से व्‍यक्‍ति को दूर रखते हैं.. 👉🏻किंवदन्‍ती है कि समुद्र गुप्‍त जब वीणा वादन करता था तो उसके उपवन में बसंत ऋतु का आभास होता था.. संगीत द्वारा पेड़ पौधों को रोग-ग्रस्‍त होने से बचाया जा सकता है.. बहेलियों के बीन बजाने पर मृग व सर्प मोहित हो जाते हैं.. आजकल कनाडा में मधुर संगीत सुनाकर गायों से अधिक दूध प्राप्‍त किया जाता है.. 👉🏻विभिन्‍न रोगों के लिये संगीतज्ञों एवं संगीत चिकित्‍सकों तथा मनोवैज्ञानिकों ने कुछ राग निश्‍चित किये हैं, जो उन रोगों को दूर करने में सहायक सिद्ध हुये हैं.. लेकिन उनका वर्णन करने से लेख का विस्तार हो जायेगा... इसलिए इस विषय मे फिर कभी लिखूँगा... फिलहाल तो इतना सब लिखने का मेरा उद्देश्य इतना सा है कि आप सब सोने से पहले मधुर संगीत का आनंद अवश्य लें.. ताकि हर प्रकार के मानसिक व शारीरिक रोगों से बचाव होता रहे.. और अगर कोई मानसिक रोग हो भी तो वह भी धीरे धीरे समाप्त हो जाये.. मेरे अनुसार मधुर संगीत महिलाओं में होने वाले.. हार्मोनल असंतुलन, हिस्टीरिया, डिप्रेशन तथा अन्य बहुत सी मानसिक बीमारियों का सर्वोत्तम उपचार है... ✍🏻... *कौनसा राग किस रोग में लाभदायक है...!* 🌿🍋🥕🍊🥣🍅🌽🍓🍐🍇 विभिन्‍न रोगों के लिये संगीतज्ञों एवं संगीत चिकित्‍सकों तथा मनोवैज्ञानिकों ने कुछ राग निश्‍चित किये हैं, जो उन रोगों को दूर करने में सहायक सिद्ध हुये हैं.. लेकिन उनका वर्णन करने से लेख का विस्तार हो जायेगा... इसलिए इस विषय मे फिर कभी लिखूँगा... फिलहाल आप यह जानिये की कौनसा राग किस रोग के उपचार हेतु प्रयोग में लाया जाता है.. प्रस्तुत है कुछ उदाहरण... 👉🏻 *रक्तचाप...* ऊंचे रक्तचाप मे धीमी गति.. और.. निम्न रक्तचाप मे तीव्र गति का गीत संगीत लाभ देता है.. शास्त्रीय रागों मे.. *राग भूपाली..* को विलंबित व तीव्र गति से सुना या गाया जा सकता है.. *ऊंचे रक्तचाप मे...* 👇🏻 *चल उडजा रे पंछी कि अब ये देश..* (भाभी), *ज्योति कलश छलके..*(भाभी की चूड़ियाँ ), *चलो दिलदार चलो..*(पाकीजा ), *नीले गगन के तले..*(हमराज़) जैसे गीत.. व.. *निम्न रक्तचाप मे..* 👇🏻 *ओ नींद ना मुझको आये..*(पोस्ट बॉक्स न॰ 909), *बेगानी शादी मे अब्दुल्ला दीवाना..* (जिस देश मे गंगा बहती हैं ), *जहां डाल डाल पर..*(सिकंदरे आजम ), *पंख होते तो उड़ आती रे..* (सेहरा) 👉🏻 *हृदय रोग...* इस रोग मे.. *राग दरबारी व राग सारंग..* से संबन्धित संगीत सुनना लाभदायक है.. *इनसे संबन्धित फिल्मी गीत निम्न हैं..* 👇🏻 *तोरा मन दर्पण कहलाये..*(काजल), *राधिके तूने बंसरी चुराई..*(बेटी बेटे), *झनक झनक तोरी बाजे पायलिया..* (मेरे हुज़ूर), *बहुत प्यार करते हैं तुमको सनम..* (साजन), *जादूगर सइयां छोडो मोरी.* (फाल्गुन), *ओ दुनिया के रखवाले..*(बैजू बावरा), *मोहब्बत की झूठी कहानी पे रोये..* (मुगले आजम) 👉🏻 *मनोरोग अथवा डिप्रेसन...* इस रोग मे.. *राग बिहाग व राग मधुवंती...* सुनना लाभदायक होता है.. *इन रागों के प्रमुख गीत इस प्रकार से हैं..* 👇🏻 *तुझे देने को मेरे पास कुछ नहीं..* (कुदरत नई), *तेरे प्यार मे दिलदार..*(मेरे महबूब), *पिया बावरी...*(खूबसूरत पुरानी), *दिल जो ना कह सका...* (भीगी रात), *तुम तो प्यार हो...*(सेहरा), *मेरे सुर और तेरे गीत..* (गूंज उठी शहनाई), *मतवारी नार ठुमक ठुमक चली जाये...*(आम्रपाली), *सखी रे मेरा तन उलझे मन डोले..* (चित्रलेखा) 👉🏻 *याददाश्त..* जिन लोगों की याददाश्त कम हो या कम हो रही हो, उन्हे.. *राग शिवरंजनी..* सुनने से बहुत लाभ मिलता है... *इस राग के प्रमुख गीत इस प्रकार से हैं...* 👇🏻 *ना किसी की आँख का नूर हूँ...* (लालकिला), *मेरे नैना...*(महबूबा), *दिल के झरोखे मे तुझको..*(ब्रह्मचारी), *ओ मेरे सनम ओ मेरे सनम...*(संगम ) *जीता था जिसके..* (दिलवाले), *जाने कहाँ गए वो दिन..*(मेरा नाम जोकर) 👉🏻 *अनिद्रा...* यह रोग हमारे जीवन मे होने वाले सबसे साधारण रोगों में से एक है.. इस रोग के होने पर.. *राग भैरवी व राग सोहनी..* सुनना लाभकारी होता है.. *इसके प्रमुख गीत निम्न प्रकार से हैं..* 👇🏻 *रात भर उनकी याद आती रही..*(गमन), *नाचे मन मोरा..* (कोहिनूर), *मीठे बोल बोले बोले पायलिया..* (सितारा), *तू गंगा की मौज मैं यमुना..* (बैजू बावरा), *ऋतु बसंत आई पवन..*(झनक झनक पायल बाजे), *सावरे सावरे..*(अंनुराधा), *चिंगारी कोई भड़के...*(अमर प्रेम), *छम छम बजे रे पायलिया..*(घूँघट).. *झूमती चली हवा..*(संगीत सम्राट तानसेन), *कुहूु कुहू बोले कोयलिया..*(सुवर्ण सुंदरी ) 👉🏻 *एसिडिटी...* इस रोग के होने पर.. *राग खमाज..* सुनने से लाभ मिलता है... *इस राग के प्रमुख गीत निम्न प्रकार से हैं...* 👇🏻 *ओ रब्बा कोई तो बताये प्यार..* (संगीत), *आयो कहाँ से घनश्याम..*(बुड्ढा मिल गया), *छूकर मेरे मन को..*(याराना), *कैसे बीते दिन कैसे बीती रतिया...* (ठुमरी-अनुराधा), *तकदीर का फसाना गाकर किसे सुनाये..*(सेहरा), *रहते थे कभी जिनके दिल मे..* (ममता), *हमने तुमसे प्यार किया हैं इतना..* (दूल्हा दुल्हन), *तुम कमसिन हो नादां हो..*(आई मिलन की बेला) 👉🏻 *कमजोरी...* यह रोग शारीरिक शक्तिहीनता से संबन्धित है.. इस रोग से पीड़ित व्यक्ति कुछ भी काम कर पाने मे खुद को असमर्थ महसूस करता है... इस रोग के होने पर राग.. *जय जयवंती..* सुनना या गाना लाभदायक होता है.. *इस राग के प्रमुख गीत निम्न हैं..* 👇🏻 *मनमोहना बड़े झूठे..*(सीमा), *बैरन नींद ना आये..*(चाचा ज़िंदाबाद), *मोहब्बत की राहों मे चलना संभलके..* (उड़न खटोला), *साज हो तुम आवाज़ हूँ मैं..* (चन्द्रगुप्त), *ज़िंदगी आज मेरे नाम से शर्माती हैं..* (दिल दिया दर्द लिया), *तुम्हें जो भी देख लेगा किसी का ना..* (बीस साल बाद) 👉🏻 *खून की कमी...* इस रोग से पीड़ित होने पर व्यक्ति का चेहरा निस्तेज व सूखा सा रहता है.. स्वभाव में भी चिड़चिड़ापन होता है.. ऐसे में.. *राग पीलू..* से संबन्धित गीत सुनने से लाभ पाया जा सकता हैं.. *इस राग के प्रमुख गीत निम्न हैं..* 👇🏻 *आज सोचा तो आँसू भर आये...* (हँसते जख्म), *नदिया किनारे...*(अभिमान), *खाली हाथ शाम आई है...*(इजाजत), *तेरे बिन सूने नयन हमारे..*(लता रफी), *मैंने रंग ली आज चुनरिया..*(दुल्हन एक रात की), *मोरे सैयाजी उतरेंगे पार..*(उड़न खटोला), 👉🏻 *अस्थमा...* इस रोग मे आस्था-भक्ति पर आधारित गीत संगीत सुनने व गाने से लाभ होता है.. *राग मालकोस व राग ललित..* से संबन्धित गीत इस रोग मे सुने जा सकते हैं.. *जिनमें प्रमुख गीत निम्न हैं...* 👇🏻 *तू छुपी हैं कहाँ..*(नवरंग), *तू है मेरा प्रेम देवता..*(कल्पना), *एक शहँशाह ने बनवा के हंसी ताजमहल..*(लीडर), *मन तड़पत हरी दर्शन को आज..* (बैजू बावरा ), *आधा है चंद्रमा..*(नवरंग) 👉🏻 *सिरदर्द...* इस रोग के होने पर.. *राग भैरव...* सुनना लाभदायक होता है.. *इस राग के प्रमुख गीत इस प्रकार से हैं...* 👇🏻 *मोहे भूल गए सावरियाँ..* (बैजू बावरा), *राम तेरी गंगा मैली..*(शीर्षक), *पूंछों ना कैसे मैंने रैन बिताई...*(तेरी सूरत मेरी आँखें), *सोलह बरस की बाली उमर को सलाम...*(एक दूजे के लिए) 👉🏻 *नोट:-* रागों के संबंध में मुझे समुचित जानकारी नही है.. इस लेख को लिखने में.. *All India Radio, Delhi* के मेरे मित्र *ज्वाला प्रसाद* और उनके पुत्र.. *माधव..* ने सहायता की है.. इसके लिए ये दोनों विशेष रूप से धन्यवाद के पात्र हैं.. ज्वाला प्रसाद जी *All India Radio..* में.. मुख्य संगीतकए है. भारतीय शास्त्रीय संगीत के विविध राग और उन्हें सुनने से फायदे : 1. राग दुर्गा – आत्मविश्वास बढानेवाला. 2. राग यमन – कार्यशक्ति बढानेवाला. 3. राग देसकार – उत्थान व संतुलन साधनेवाला 4. राग बिलावल – अध्यात्मिक उन्नति व संतुलन साधनेवाला. 5. राग हंसध्वनि – सत्य असत्य को परिभाषित करनेवाला राग. 6. राग शाम कल्याण – मुलाधार उत्तेजित करनेवाला और आत्मविश्वास बढानेवाला. 7. राग हमीर – आक्रामकता बढानेवाला, यश देनेवाला, शक्ति और उर्जा निर्माण करनेवाला. 8. राग केदार – स्वकर्तृत्व पर पूर्ण विश्वास, भरपूर उर्जा निर्माण करनेवाला और मुलाधार उत्तेजित करनेवाला. 9. राग भूप – शांति निर्माण, संतुलन साधकर अहंकार मिटाता है. 10. राग अहिर भैरव – शुद्ध इच्छा, प्रेम एवं भक्ति भाव निर्माण करता है व आध्यात्मिक उन्नति, पोषक वातावरण निर्मित कारक. 11. राग भैरवी – भावना प्रधान राग, सर्व सदिच्छा पूर्ण कर प्रेम सशक्त और वृद्धि करता है. 12. राग मालकौस – अतिशय शांत एवं मधुर राग. प्रेमभाव निर्माण करता है व संसारिक सुख में वृद्धि करेगा. 13. राग भैरव – शांत वृत्ति व शुध्द इच्छा निर्माण करता है. आध्यात्मिक प्रगति के लिये पोषक एवं शिवत्व जागृत करनेवाला राग. 14. राग जयजयवंती – सुख समृद्धि और यश देने वाला राग. समस्या दूर करनेकी क्षमता. 15. राग भीम पलासी - संसार सुख व प्रेम देता है. 16. राग सारंग – अति मधुर राग. कल्पना शक्ति व कार्यकुशलता बढाकर नवनिर्मित ज्ञान प्रदान करता है, आत्मविश्वास बढाकर परिस्थिति का ज्ञान देता है. 17. राग गौरी – गुण वर्घक राग - शुद्ध ईच्छा, मर्यादाशीलता, प्रेम, उत्थान ,समाधान कारक. विविध प्रकार के मकरन्दों (पुष्परस) से आसव, मद्य आदि की ज्ञान कराया जाता था। साभार 🙏🏼 soniya singh Facebook wall

Read more

Ads