अगस्त, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
 समाधि का पहला अनुभव कैसा होता है?

बुद्ध के पास जब भी कोई जाता था, कोई प्रश्न पूछने, तो बुद्ध कहते: रुक जाओ, दो वर्ष रुक जाओ। दो वर्ष चुप बैठो मेरे पास, फिर पूछ लेना।ऐसा हुआ, एक बड़ा दार्शनिक बुद्ध के पास गया। नाम था मौलुंकपुत्त । जाहिर दार्शनिक था। उसने बड़े प्रश…

भविष्य में ऐसी होगी हमारी दुनिया |

dusare ke man ki baat kaise jaane

ज़्यादा पोस्ट लोड करें कोई परिणाम नहीं मिला